Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan : प्रदेश में वात्सल्य योजना की घोषणा के बाद लगातार सामने आ रहे अनाथ बच्चों के मामले,विभाग को शासनादेश का है इंतजार 

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan : पिछले दो महीनों के भीतर 137 बच्चों के माता-पिता या दोनों में से किसी एक की कोविड से मौत के मामले सामने आए हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इन बच्चों के लिए वात्सल्य योजना की घोषणा की है, लेकिन ऐसे बच्चों का पता लगाने में लगा विभाग इन बच्चों की मदद के लिए शासनादेश का इंतजार कर रहा है.

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan: विभागीय अधिकारियों का कहना है कि इन बच्चों की संख्या और बढ़ सकती है। राज्य में वात्सल्य योजना की घोषणा के बाद से लगातार ऐसे बच्चों के मामले सामने आ रहे हैं. महिला अधिकारिता एवं बाल विकास विभाग की ओर से हर जिले में विभिन्न माध्यमों से ऐसे बच्चों का पता लगाया जा रहा है. विभाग को पिछले दो माह के अंदर अब तक ऐसे बच्चों के आंकड़े मिले हैं।

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan: इनमें सर्वाधिक 42 बच्चे हरिद्वार जिले के हैं, जिन्होंने अपने माता-पिता या इनमें से किसी एक को कोविड के कारण खो दिया है। जबकि नैनीताल में अब तक 23 और देहरादून में 17 मामले सामने आ चुके हैं। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि योजना के प्रस्ताव को अभी तक कैबिनेट या मुख्यमंत्री ने अपने विशेषाधिकारों के साथ मंजूरी नहीं दी है। यही कारण है कि इसका शासनादेश नहीं किया गया है।

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan

शासनादेश जारी होने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि ऐसे बच्चों का पता लगाया जा रहा है, लेकिन शासनादेश जारी होने के बाद ही यह स्पष्ट होगा कि माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु होने पर भी बच्चों को लाभ मिलेगा या नहीं. .

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan: अनाथ बच्चों को किस तरह की मदद दी जानी है, यह शासनादेश जारी होने के बाद ही स्पष्ट होगा। फिलहाल विभागीय अधिकारी उन बच्चों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं, जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड से खोया है और साथ ही उन बच्चों का भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है, जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड से खोया है।

Read Also: उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू 8 जून तक बढ़ा, जानिए कौन सी दुकानें खुली रहेंगी

Uttarakhand Ujala Apanatva Abhiyan: पिछले दो महीने के भीतर राज्य में 9 बच्चे अपने माता-पिता के पास कोविड से खोए हुए पाए गए हैं. इसके अलावा माता-पिता में से एक की पहले और एक की मौत फिलहाल कोविड से होने के 14 मामले सामने आए हैं. अब तक कमाऊ सदस्य के 114 एपिसोड कोविड से प्राप्त हो चुके हैं। जिनमें से उत्तरकाशी में 14, पिथौरागढ़ में 7, टिहरी गढ़वाल में 13, पौड़ी गढ़वाल में 2, नैनीताल में 20, हरिद्वार में 35, देहरादून में 14, चंपावत में 5 और चमोली में कमोली में चार मामले सामने आए हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button