Coronavirus Infromation: खोजी कुत्ते COVID-19 का पता लगाने में 88% सटीक, यूके के अध्ययन से हुआ खुलासा

Coronavirus Infromation: पिछले साल से अब तक, घातक COVID-19 वायरस की वृद्धि को नियंत्रित करने के लिए कई अध्ययन हुए हैं, जो हर तनाव के साथ गंभीर होता जा रहा है और विश्व स्तर पर हलचल मचा रहा है। और अब, एक और अध्ययन सामने आया है जो कहता है कि कुत्ते COVID-19 का पता लगा सकते हैं।

सही पढ़ा आपने, यह सच है! एक नए अध्ययन के अनुसार, खोजी कुत्ते SARS-CoV2 का पता लगाकर कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने में मदद कर सकते हैं और वे अपने परिणाम में 88% सटीक हो सकते हैं।

Coronavirus Infromation

अध्ययन क्या कहता है?

अध्ययन में लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन और डरहम विश्वविद्यालय के विशेषज्ञ शामिल हैं। इसमें कहा गया है कि पहले डॉग स्क्रीनिंग और फिर स्वाब टेस्टिंग में 91 फीसदी संक्रमण मिलेगा। और इस बीच, COVID-19 परीक्षण परिणामों के साथ तैयार होने में 15 मिनट का समय लेते हैं, एक खोजी कुत्ता इसे सेकंड के अन्दर आसानी से कर सकता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, अगर किसी के पास ऐसे दो कुत्ते हों तो वे आधे घंटे में 300 लोगों की जांच कर सकते हैं।

Coronavirus Infromation : लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन के प्रोफेसर लोगान ने कहा कि यह इस सूंघने के परीक्षण को “बड़े पैमाने पर स्क्रीनिंग के लिए एक उपयुक्त विधि” के रूप में आगे बढ़ा सकता है। वायरस का जल्द पता लगाने के लिए हवाई अड्डों या रेलवे स्टेशनों पर स्क्रीनिंग का यह तरीका लगाया जा सकता है।

Read Also: मदुरै के एक जोड़े को फ्लाइट में शादी करना पड़ा महंगा, डीजीसीए ने शुरू की जांच, देखिये अनोखी शादी का video

शोध की प्रक्रिया क्या थी?

Coronavirus Infromation : पूरे शोध की प्रक्रिया 2020 में शुरू हुई जब COVID-19 से संक्रमित लोगों की गंध का पता लगाने के लिए 6 विशेषज्ञ चिकित्सा खोजी कुत्तों को प्रशिक्षित किया गया। बीमारी का पता लगाने के लिए कुत्तों को कोरोना मरीजों के फेस मास्क, मोजे और अन्य चीजें दी गईं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुत्ते कम या बिल्कुल भी लक्षण नहीं होने पर भी वायरस को आसानी से पहचानने में सक्षम थे। ऐसा नहीं है, कुत्तों ने COVID-19 वायरस को अन्य श्वसन संक्रमणों से भी अलग कर दिया।

यह कैसे काम करता है?

Coronavirus Infromation : चैरिटी मेडिकल डिटेक्शन डॉग्स के मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी क्लेयर गेस्ट के अनुसार, अध्ययन से पता चला है कि “आगे सबूत है कि कुत्ते मानव रोग की गंध का पता लगाने के लिए सबसे विश्वसनीय बायोसेंसर में से एक हैं।” सूंघने के परीक्षण के माध्यम से, कुत्ते 100 में से 88 मामलों का सही पता लगाने में सक्षम थे इस बीच वे शेष 12 को पहचानने में विफल रहे जिनके पास वायरस नहीं था। हालांकि,शोधकर्ताओं के अनुसार, वे सकारात्मक मामलों का पता लगाने के लिए कुत्तों का उपयोग करने की योजना नहीं बनाते हैं, लेकिन यदि आवश्यक हो तो अतिरिक्त जांच के लिए उनके साथ रहें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button